पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Mahagun Mywood Price list:
    Attachments:
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Mahagun Mywood Price list:


    SRK impact on price list..........:D
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Mahagun Mywood Price list:



    Good to see GNW Crossing Rs 4000 PSF .
    CommentQuote
  • Originally Posted by Prop Hunter
    Good to see GNW Crossing Rs 4000 PSF .


    I cant believe this is happening.

    Gaur is unable to sell its flat at 3400 and Mahagun is pricing it at 4000. The prices will move towards 4000 gradually but in a market where prices have been stuck for sometimes, increasing the prices is a bold move!
    CommentQuote
  • i think mahagun inventories approx. sold out thats why they are increasing prices , i think is the highest bsp in noida extension.
    CommentQuote
  • Originally Posted by Pradyot1315sqf
    Mahagun Mywood Price list:

    Lagta hai flat jyada bik gaye Mahagun ke :D

    I just simply do not understand why some1 will pay 4k when same is available 3-3.5k. And I should definitely appreciate Mahagun that when the realty all across country is in crisis they have shown the courage.
    CommentQuote
  • ya mahagun my woods may sold out .
    CommentQuote
  • Originally Posted by imridul2k
    Lagta hai flat jyada bik gaye Mahagun ke :D

    I just simply do not understand why some1 will pay 4k when same is available 3-3.5k. And I should definitely appreciate Mahagun that when the realty all across country is in crisis they have shown the courage.



    3-3.5 K Mahagun ki baat kar rahe ho ya kisi aur Project Ki ??
    CommentQuote
  • guys any body have an idea about impact of land aqu. bill on noida extension projects , will builders will demand more money from buyers?
    CommentQuote
  • Originally Posted by imridul2k
    Lagta hai flat jyada bik gaye Mahagun ke :D

    I just simply do not understand why some1 will pay 4k when same is available 3-3.5k. And I should definitely appreciate Mahagun that when the realty all across country is in crisis they have shown the courage.



    kaagaz me hi sahi--- 4000 psqf pahuch hi gaya :D
    CommentQuote
  • Bhai logon, prices are same as earlier. Only change is that they have launched No- PEMI Construction Linked Payment Model to sell No PEMI Scheme after the RBI directive not to disburse any loan in any plan other than Construction Linked Plan.
    CommentQuote

  • मुआवजा के लिए प्राधिकरण और देगा सौ करोड़

    Updated on: Tue, 24 Sep 2013 07:44 PM (IST)


    संवाददाता, ग्रेटर नोएडा :

    किसानों को जमीन का 64.7 फीसद अतिरिक्त मुआवजा बांटने के लिए प्राधिकरण शीघ्र सौ करोड़ रुपये की धनराशि और जारी करेगा। हालांकि, प्राधिकरण बैंकों से करीब पांच सौ करोड़ रुपये का कर्ज लेने का प्रयास कर रहा है। इसे मिलते ही किसानों के मुआवजे के लिए डेढ सौ करोड़ रुपये और दे दिए जाएंगे।

    इलाहाबाद हाईकोर्ट के निर्देश पर प्राधिकरण 39 गांवों के किसानों को अतिरिक्त मुआवजा दे रहा है। अतिरिक्त मुआवजे के रूप में किसानों को करीब पांच हजार करोड़ रुपये बांटे जाने हैं। अब तक प्राधिकरण 26 सौ करोड़ रुपये बांटे चुका है। एडीएम एलए शिशिर सिंह ने गत सप्ताह प्राधिकरण को पत्र भेजकर दो सौ करोड़ रुपये की और मांग की थी। उधर, जमीन विवाद के चलते विभिन्न योजनाओं के आवंटियों ने पीछे काफी लंबे समय से प्राधिकरण को किश्तों का भुगतान बंद कर रखा है। इससे प्राधिकरण के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। एक तरफ आवंटी किश्तों का भुगतान नहीं कर रहे हैं, दूसरी तरफ किसानों को मुआवजा बांटने के लिए प्राधिकरण को अभी ढाई हजार करोड़ रुपये की और जरूरत है। शीघ्र मुआवजे के लिए किसान आए दिन धरना-प्रदर्शन भी करते रहते हैं। मंगलवार को संघर्ष समिति के प्रवक्ता मनवीर भाटी प्राधिकरण अधिकारियों से मिले, उन्होंने मुआवजा वितरण में तेजी लाने की मांग की।

    आवंटियों को भेजे जाएंगे नोटिस

    प्राधिकरण आवंटियों से किश्त लेने के लिए शीघ्र उन्हें नोटिस जारी करेगा। समय पर किश्तों का भुगतान न करने वालों से अतिरिक्त जुर्माना वसूला जाएगा। जुर्माना न देने पर प्राधिकरण आवंटन निरस्त करने की कार्रवाई भी करेगा।

    मुआवजा के लिए प्राधिकरण और देगा सौ करोड़ 10750062
    CommentQuote
  • बढे़ मुआवजे के लिए अहम बैठक 30 को

    65 गांवों के किसानों को बढ़ा मुआवजा देने समेत अन्य मांगों को लेकर कैबिनेट मंत्री की अध्यक्षता में 30 सितंबर को दिल्ली के यूपी भवन में बैठक होगी। यमुना अथॉॅरिटी के सीईओ पीसी गुप्ता ने बताया कि पहले यह बैठक लखनऊ में होनी थी। इसमें किसान संगठन के प्रतिनिधि और कमिटी के 12 सदस्य शामिल हांेगे। बता दें कि यमुना अथॉरिटी एरिया के किसानों ने अधिग्रहण के विरोध में हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। कोर्ट ने कुछ याचिकाओं पर स्टे ऑर्डर दे रखा है। इससे विकास कार्य प्रभावित हो रहा है। किसानों की मांगों पर विचार के लिए यूपी गवर्नमेंट ने कैबिनेट मंत्री राजेंद्र चौधरी की अध्यक्षता में 13 सदस्यीय कमिटी बनाई है। इसमें कैबिनेट मंत्री के अलावा तीनों अथॉरिटी के चेयरमैन, यमुना अथॉरिटी के सीईओ, दो कमिश्नर और डीएम शामिल हंै। यह कमिटी किसान और किसान प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर बाद में निर्णय लेगी।


    बढे़ मुआवजे के लिए अहम बैठक 30 को - Important meeting for compensation increased to 30 - Navbharat Times
    CommentQuote
  • Originally Posted by CA Rajeev
    Bhai logon, prices are same as earlier. Only change is that they have launched No- PEMI Construction Linked Payment Model to sell No PEMI Scheme after the RBI directive not to disburse any loan in any plan other than Construction Linked Plan.

    Although; I too saw a press release from RBI; the developers are floating this schemes as if there is no tomorrow. Scheme - virus has hit many projects/towns and fanatically promoted. Cant predict the fate of people that may be trapped.
    It seems ; this proposal may get implemented after FESTIVAL SEASON :D
    CommentQuote
  • If any IREF Members have Layout of Sector 1 & Tech Zone-IV, please put on forum as it will give some idea about abadi land (Abadi Land is marked in Sector -3 layout).

    I have Sector Layout Plans of Sector 2 & 3 of Greater Noida West, but i am not able to attach here.
    When i press attach tab, it says write URL. Plz help seniors...
    CommentQuote