पतवाड़ी के किसानों का लिखित समझौता
जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा किसानों के साथ समझौते की दिशा में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को बृहस्पतिवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पतवाड़ी गांव के किसानों के साथ प्राधिकरण का समझौता हो गया। इससे बिल्डरों व निवेशकों को बहुत बड़ी राहत मिली है। समझौता भी किसानों के लिए फायदेमंद रहा। उन्हें अब 550 रुपये प्रति वर्गमीटर अतिरिक्त मुआवजा देने पर सहमति बन गई है। साथ ही आबादी व बैकलीज की शर्तो को हटा लिया गया है। हालांकि नोएडा के सेक्टर-62 में गुरुवार को देर रात तक अन्य मुद्दों पर प्राधिकरण व किसानों के बीच बातचीत जारी थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 19 जुलाई को पतवाड़ी गांव की 589 हेक्टयेर जमीन का अधिग्रहण रद कर दिया था। अधिग्रहण रद होने से सात बिल्डरों के प्रोजेक्ट प्रभावित हुई हुए थे। 26 हजार निवेशकों के फ्लैट का सपना भी टूट गया था। प्राधिकरण के ढाई हजार भूखंड़ों, चार सौ निर्मित मकानों व दो इंजीनियरिंग कॉलेज की योजना भी अधर में लटक गई थी। 26 जुलाई को हाईकोर्ट ने नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों की सुनवाई के दौरान प्राधिकरण, बिल्डर व किसानों को 12 अगस्त तक आपस में समझौते करने का सुझाव दिया था। हाईकोर्ट के सुझाव पर प्राधिकरण ने किसानों से समझौते के लिए वार्ता की पहल शुरू की। 27 जुलाई को प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन ने सबसे पहले पतवाड़ी गांव के प्रधान को पत्र भेज कर वार्ता करने के लिए आमंत्रित किया। दूसरे दिन ग्राम प्रधान रेशपाल यादव ने प्राधिकरण कार्यालय पहुंच कर सीईओ से बातचीत कर उनका रुख जानने का प्रयास किया था। 30 जुलाई को सीईओ ने गांव पतवाड़ी जाकर किसानों से सामूहिक रूप में बात की। इस दौरान मुआवजा वृद्धि को छोड़कर किसानों के साथ अन्य मांगों पर प्राधिकरण ने सकारात्मक रुख दिखाया। मुआवजा बढ़ोतरी पर बातचीत करने के लिए किसानों को आपस में कमेटी गठित कर वार्ता का प्रस्ताव सीईओ दे आए थे। इसके बाद किसानों के साथ गुरुवार को नोएडा के सेक्टर-62 में बैठक बुलाई गई। इसमें प्राधिकरण के सीईओ रमा रमन, ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री जयवीर ठाकुर, सांसद सुरेंद्र सिंह नागर व जिलाधिकारी के साथ किसानों की वार्ता शुरू हुई। आठ घंटे तक वार्ता चलने के बाद किसान समझौते के लिए तैयार हो गए। सूत्रों के अनुसार पतवाड़ी गांव के किसानों को मिले 850 रुपये प्रति वर्गमीटर के अलावा 550 रुपये प्रति वर्गमीटर और देने पर सहमति बन गई है। देर रात तक बैठक जारी थी। अभी इसकी अधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। हालांकि गांव के कुछ किसानों ने वार्ता की पुष्टि की है। इससे पूर्व किसानों की आबादी को पूरी तरह से अधिग्रहण मुक्त रखा जाएगा। बैकलीज की शर्ते हटा ली जाएगी। पतवाड़ी गांव का समझौता होने पर प्राधिकरण को नोएडा एक्सटेंशन के अन्य गांवों में किसानों के साथ समझौता करने की राह आसान हो गई है। नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने रोके खरीददार : नोएडा एक्सटेंशन विवाद ने समूचे ग्रेटर नोएडा एवं यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में संपत्तियों की खरीद-फरोख्त पर ब्रेक लगा दिया है। दोनों जगह ढूंढे से भी खरीददार नहीं मिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो लोग शहर में अपना आशियाना बनाने के लिए आतुर थे, वे अब यहां संपत्ति खरीदने से हिचकिचा रहे हंै। पिछले बीस दिनों में भूखंड व मकानों की गिनी-चुनी रजिस्ट्री हुई हैं। सिर्फ गांवों में कृषि व आबादी भूमि की रजिस्ट्री हो रही है। इससे प्रदेश सरकार को राजस्व की भी हानि उठानी पड़ रही है
-Dainik Jagran.
Read more
Reply
16355 Replies
Sort by :Filter by :
  • Originally Posted by trialsurvey
    just around 14 months since NCRPB approval had come ... no chance of possession in such a short time frame

    but yes some great progress in most of the projects ..



    I guess there will be some around June-July in Gaur City 1, based on the promise & progress made by Gaur.

    What do you say trial bhai ?
    CommentQuote
  • Just noticed that I made a century of posts...:)

    Great learning experience from RE Gurus.. Thanks to all :)
    CommentQuote
  • Few of Eco Village 1 towers are expected possession in March 2014.
    CommentQuote
  • I am looking for making a purchase in NE in coming month. If I am looking for economical options (rates less than 3200) and expect a possesion in not more than 36 months, what are my major options? I do have some idea but need pointers from Guru to dive deep into them and make an informed decision.
    CommentQuote
  • Originally Posted by envynicky
    I am looking for making a purchase in NE in coming month. If I am looking for economical options (rates less than 3200) and expect a possesion in not more than 36 months, what are my major options? I do have some idea but need pointers from Guru to dive deep into them and make an informed decision.


    Go for ajnara le garden

    Sent from my GT-N7000 using Tapatalk
    CommentQuote
  • ग्रेनो वेस्ट में अब कंस्ट्रक्शन की क्वालिटी पर सवाल?

    Jan 7, 2014, 08.00AM IST


    आशीष दुबे ॥ नोएडा
    गोवा में एक मल्टी स्टोरी बिल्डिंग में ढहने की घटना से नोएडा, ग्रेनो समेत एनसीआर के ऐसे बायर्स भयभीत हैं, जिन्होंने हाई राइज बिल्डिंग प्रोजेक्ट में इनवेस्ट किया है। बिल्डिंगों को बनाने में इस्तेमाल होने वाले मैटीरियल की क्वालिटी की कंट्रोलिंग के लिए किसी ऐजेंसी के नहीं होने से अब बायर्स गुणवत्ता को लेकर सहम गए हैं। गोवा की घटना के बाद नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर्स वेलफेयर असोसिएशन (नेफोवा) ने यूपी के सीएम अखिलेश यादव को लेटर लिखकर प्रोजेक्ट्स के निर्माण एवं तकनीक की जांच के लिए समिति को गठित करने की मांग की है। ऐसे ही लेटर प्रदेश के शहरी विकास मंत्री आजम खान और ग्रेनो अथॉरिटी के सीईओ को भी लिखे हैं। नेफोवा की महासचिव श्वेता भारती ने बताया कि पहले भी इस संदर्भ में कई बार राज्य सरकार और अथॉरिटी को लेटर भेजे गए हैं लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है।

    NBT
    CommentQuote
  • ग्रेनो वेस्ट में अब कंस्ट्रक्शन की क्वालिटी पर सवाल?

    Jan 7, 2014, 08.00AM IST


    आशीष दुबे ॥ नोएडा
    गोवा में एक मल्टी स्टोरी बिल्डिंग में ढहने की घटना से नोएडा, ग्रेनो समेत एनसीआर के ऐसे बायर्स भयभीत हैं, जिन्होंने हाई राइज बिल्डिंग प्रोजेक्ट में इनवेस्ट किया है। बिल्डिंगों को बनाने में इस्तेमाल होने वाले मैटीरियल की क्वालिटी की कंट्रोलिंग के लिए किसी ऐजेंसी के नहीं होने से अब बायर्स गुणवत्ता को लेकर सहम गए हैं। गोवा की घटना के बाद नोएडा एक्सटेंशन फ्लैट ओनर्स वेलफेयर असोसिएशन (नेफोवा) ने यूपी के सीएम अखिलेश यादव को लेटर लिखकर प्रोजेक्ट्स के निर्माण एवं तकनीक की जांच के लिए समिति को गठित करने की मांग की है। ऐसे ही लेटर प्रदेश के शहरी विकास मंत्री आजम खान और ग्रेनो अथॉरिटी के सीईओ को भी लिखे हैं। नेफोवा की महासचिव श्वेता भारती ने बताया कि पहले भी इस संदर्भ में कई बार राज्य सरकार और अथॉरिटी को लेटर भेजे गए हैं लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है।

    NBT
    CommentQuote
  • Originally Posted by Veer12
    Go for ajnara le garden

    Sent from my GT-N7000 using Tapatalk



    New tower launched at ajnara le garden 2bhk and 3bhk - 950 and 1195 sq ft ...
    CommentQuote
  • Hi, envynicky
    You can have look at Krishna Apra Royal court,,, It is good semifurnished,,, good pace of construction etc,,have a look.
    CommentQuote
  • BSF to Set Up Headquarters in Greater Noida
    GREATER NOIDA | JAN 09, 2014


    BSF DG today laid the foundation stone of Frontier and Sector Headquarter for Border Security Force here.

    The headquarters are expected to be completed in two years.

    "There is no International Border in Uttar Pradesh and no BSF personnel deployed for operational duties in UP. However, the central government has approved for establishing a BSF Camp at Greater Noida for Frontier and Sector Headquarters," DG, BSF, Subhash Joshi said.

    "It would be more beneficial for approx 36,000 personnel under service and retired personnel belonging to Uttar Pradesh," Joshi, IPS officer, said after laying the foundation stone in Plot No 39, near Knowledge Park-5.

    Uttar Pradesh government has provided nearly 20 acres land for establishment of Border Security Force Camp. It is the first camp in Delhi NCR region.

    Construction of Administrative Block, Jawan Barrack, Officer and Subordinate Officer Mess, Hospital and Residential accommodation are also proposed in this Camp.

    BSF has already established camps in Bareilly, Lucknow and Mathura in Uttar Pradesh for Reserve Battalion.

    "After establishment of BSF Camp in Greater Noida, personnel belonging to West Uttar Pradesh serving in BSF and retired personnel will get benefits such as residential accommodation, medical, school, and canteen facilities," Joshi said.

    "BSF has increased its presence in the hinterlands in last few years. It has an all-India character and is represented by people from all corners of the country.

    "But till recently, BSF's presence was limited to states on Indo-Pak and Indo-Bangladesh Borders. Due to continuous deployment in remote border areas, BSF personnel hardly get time to serve near their home towns.

    "In order to overcome this problem, concept of hinterland KLPs (headquarters) was introduced by BSF with the approval of Government of India," IG, Admin, Ashok Kumar said.


    BSF to Set Up Headquarters in Greater Noida
    CommentQuote
  • Originally Posted by mehrotra
    I have a budget of 60 L.


    bhai saab ,I have very conservative view,i m not talking about economy ,i am talking about u...

    Why cant u deposit 60 lakh in a govt. bank and have yearly income of 60000 pm interest.
    CommentQuote
  • As per Gaur city group on fb, letter have been send GC4 buyers that possession is due on 30Apr2014 and buyers to indicate when are they physically moving
    CommentQuote
  • Originally Posted by registerme
    bhai saab ,I have very conservative view,i m not talking about economy ,i am talking about u...

    Why cant u deposit 60 lakh in a govt. bank and have yearly income of 60000 pm interest.


    Bhai, which Govt. Bank is offering 12% interest? Is that net of tax by the way?:bab (59):
    CommentQuote
  • Originally Posted by del_sanju
    As per Gaur city group on fb, letter have been send GC4 buyers that possession is due on 30Apr2014 and buyers to indicate when are they physically moving


    Guar city has started sending letter of possession for Gaur city 1? This is really a good news. Let people start taking possession and living. Once this area will be livable other projects will get appreciation.
    CommentQuote
  • Friends .... I have a flat in GC 4...and received same letter... Do the builder need completion certificate from authority. before giving possession ?

    Sent from my A52 using Tapatalk 2
    CommentQuote