A lot of companies are advertising for property citing nearness to Dwarka expressway corridor.

Shilas, Indiabulls Centrum Park and Ramprastha Edge Tower come to mind.

Does anybody have news on when this construction will start and when it is likely to finish? Has the contract been awarded and to whom?
Date of completion and start of operation will be vital news for evaluating the pricing of flats sold in this corridor.

Last I heard was that a few houses in Palam Vihar were slated for demolition for this expressway in May June 09 or thereabouts.
Read more
Reply
19760 Replies
Sort by :Filter by :
  • Totally agreed, but if we want to see the ROI then in that case entering in a project at a lower ticket price will always fetch more returns, regarding specifications revanta is not for specifications but for the one of its kind project in that area with 70 floors and architectural skills... ac's, modular kitchen etc etc are now do not attract investors/end users much as they are paying for all those things at a price higher than market price when they goto buy these... i have seen people preferring raw apartments until the specifications are quite rich and extraordinary.. even if you see dlf has given voltas//videocon/lg ac's in belaire and park place....
    spaze location is also good hardly 500 mtrs from dew next to commercial belt but i think due to no construction and builder name this is not picking up, it will surely pick up as every other project in gurgaon but in sometime or when const starts, so in my opinion this is the time to pick a unit in this project to earn good returns..


    Originally Posted by JASA8bYR
    Please note the specifications of each project, as far as I know Imperial gardens and Revanta have luxury specs. Within them Imperial is on dwaka xway while Revanta is on NH8. Plus both builders are of repute in terms of quality. My 2 cents there....
    CommentQuote
  • HUDA is very inefficient agency and lately they have been creating problems for transfer of rights to MCG although MCG went through elections and many educated persons from different RWAa got elected in that.. It can bring difference to ggn's sorry state of affairs..
    CommentQuote
  • Originally Posted by researching
    Totally agreed, but if we want to see the ROI then in that case entering in a project at a lower ticket price will always fetch more returns,


    Completely agree....Jan 2012 i studied a few projects.....and bought 1, but now what i am realized now is that...no matter at what rate i booked in sector 82 - 110, nearly all project are appreciated by 800-1200 psf, and mostly it's by 900psf. i should have booked once which were available that time around 2500 rs psf. which currently is selling around 3300 -3500, but booked around 3450 and which is currently selling around 4250 -4400. so ROI at lower ticket price is certainly more.
    CommentQuote
  • Hi Guys, need ur opinions-is it good to invest in Paras 106 now with a rate of 6250 psft for a 2 bhk with the launch expected in feb2013.
    I am looking for this for a purely investment purpose,could anybody provide info on any other suitable option?
    CommentQuote
  • Originally Posted by ranask
    Hi Guys, need ur opinions-is it good to invest in Paras 106 now with a rate of 6250 psft for a 2 bhk with the launch expected in feb2013.
    I am looking for this for a purely investment purpose,could anybody provide info on any other suitable option?



    Let us not talk about the individual projects particulary on this thread. There are saperate threads available for all the projects available on Dway. It is better to discuss the same at there.

    We should discuss the concerns/resolution/way forward/upadates/news regarding the Dway on this thread.

    Ignore if you do not like
    CommentQuote
  • प्लॉट के बदले अब दिए जाएंगे फ्लैट

    एनपीआर की रुकावटों को दूर करने की प्लानिंग चल रही है। इसके बीच में आ रहे प्लॉट या मकान मालिकों को उनकी जमीन के बदले में फ्लैट देने के निर्देश फाइनैंशल कमिश्नर ने जारी किए हैं। इसके तहत जल्द ही बिल्डर्स के साथ बैठक की जाएगी। इसको लेकर एसटीपी को निर्देश जारी किए जा चुके हैं। साथ ही साथ एस्टेट अफसर वन व भूमि अधिग्रहण अधिकारी से जानकारी मांगी गई है कि वे बताएं कि कितने प्लॉट व मकान एनपीआर के बीच में आ रहे हैं।
    - डॉ . प्रवीण कुमार , ऐडमिनिस्ट्रेटर , हूडा #
    दीपक आहूजा ॥ गुड़गांव
    नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड ( एनपीआर ) के निर्माण में आ रही अड़चनों को दूर करने को लेकर एक नया रास्ता निकाला गया है। इसके तहत रोड के बीच में जिनके मकान या प्लॉट आ रहे हैं , उन्हें इस रोड पर बन रही हाई राइज बिल्डिंग में फ्लैट दिया जाएगा। इस मामले को लेकर हूडा , टाउन एंड कंट्री प्लानिंग ( टीसीपी ) डिपार्टमेंट के अधिकारियों के अलावा एनपीआर पर हाउसिंग प्रोजेक्ट तैयार कर रहे बिल्डर्स की मीटिंग होगी।
    हाल ही में टीसीपी के फाइनैंशल कमिश्नर एस . एस . ढिल्लो ने सेक्टर -29 स्थित हूडा जिमखाना क्लब में अधिकारियों की मीटिंग ली थी। इसमें उन्होंने एनपीआर में आ रही अड़चनों को जल्द दूर करने के आदेश दिए थे। उन्होंने कहा कि एनपीआर पर बनने वाली हाई राइज इमारतों में विस्थापितों को घर दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐडमिनिस्ट्रेटर की अध्यक्षता में बैठक कर एनपीआर के सभी बिल्डर्स को बुलाया जाए। एनपीआर का रास्ता साफ करने को लेकर कितने फ्लैट की आवश्यकता पड़ेगी , इसको बताया जाए। इसके बाद एरिया अनुपात के आधार पर बिल्डर्स के हाउसिंग प्रोजेक्ट में फ्लैट अलॉटमेंट की प्लानिंग को तैयार किया जाए।


    विस्थापितों को सेक्टर 110 में प्लॉट देने की प्लानिंग है। इसको लेकर यहां करीब 38 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया गया है। इसका ले आउट प्लान तैयार किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि अगले माह तक ले आउट प्लान को फाइनल कर दिया जाएगा।
    क्या है मामला
    एनपीआर , दिल्ली के द्वारका से शुरू होकर गांव खेड़कीदौला के पास एनएच 8 पर जाकर मिलता है। 18 किमी रोड में से 14 किमी का टेंडर एक कंपनी को दिया गया है। इसका निर्माण चल रहा है। 4 किलोमीटर एरिया मे न्यू पालम विहार , खेड़कीदौला और गांव दौलताबाद के 300 से अधिक मकान और प्लॉट आ रहे हैं , जिन्होंने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में याचिका दायर की हुई है। पिछले साल हाई कोर्ट ने मामले को आपसी सहमति से निपटाने के आदेश दिए थे। अभी तक दोनों पक्षों के बीच सहमति नहीं बन सकी है। इस मामले में हाई कोर्ट का स्टे है।


    प्लॉट के बदले अब दिए जाएंगे फ्लैट - Instead of the plot will be flat - Navbharat Times
    CommentQuote
  • ya allah, wo din kab aayega jab india mein planned development hoga ...


    HUDA has acquired land in Sec 110 , then why the hell they are thinking putting this on builders (i am not in favor of builders at all). The person who has a 600 yard plot getting vanished by NPR ... will he be satisfied with a flat ..

    Let allah take care of it :)
    CommentQuote
  • The land is not fully acquired in 110.
    One another colony pre exist there.

    Even those people have gone to court.
    CommentQuote
  • Today's Visit

    Hello All - I went to DEW today... almost after 2 years... to check Sector 109 development... here is my observation:

    Sector 108 Experion/Vedanta are too close to Sector 109.. with roads coming in folks in Sector 108 will be quite happy that sector 109 has some good builders and it will be less than 2 kms once the road is ready..
    Sector 106, CHD developers.. god save people who invested in this project... the project entrance has a village in front.. so people who love to stay countryside this will be the best place... :bab (59):I am very surprised that CHD could sell at this rate and that too with the area... and surroundings... gurgaon mein kuch bhi bikta hai..

    I was surprised to see DEW.. I have been waiting for it for so long that I couldnt stop crying...;).. joking but I could see the road.. Sector 103/104 intersection and though just 4-5 kms but I could see heavy activity on this road... property dealers lot of folks checking adjoining areas.. spoke to a few property dealers they did say best place for investment.. and said Feb you will see things changing... HUDA is serious... I checked with them which HUDA or HOODA... :D as depends who is then only we will see some movement... one thing which I could see was that DEW is coming alive and once litigations are over.. will see the sunrise.. time god knows... leaving you with pictures of Experion and DEW...
    1st pic - DEW 103/104 intersection
    2nd pic - Experion site from Raheja Vedanta
    Attachments:
    CommentQuote
  • From last one week lot of news published in several news paper regarding progress and litigation part buy nobody had posted in thread.

    In yesterday HT news was that litigants has rejected revised rehabilitation programme of HUDA.
    CommentQuote
  • Dispute news in HT 25th Dec

    Seems... residents are okay with 110a but the land owners have now put a dispute
    Attachments:
    CommentQuote
  • Huda To House Oustees In Pvt Project Along NPR 22nd dec HT

    Huda To House Oustees In Pvt Project Along NPR
    Attachments:
    CommentQuote
  • एनपीआर के रोड़े हटाने पर काम शुरू

    एनपीआर के रोड़े हटाने पर काम शुरू


    कोट
    एनपीआर की अड़चनों को दूर करने की प्लानिंग के तहत तेज गति से काम चल रहा है। विवादित प्लॉट के बदले में बिल्डर एरिया में फ्लैट देने की प्लानिंग चल रही है। अधिकारियों की 5 सदस्यीय टीम को प्लानिंग तैयार करने के निर्देश जारी किए गए हैं। प्लानिंग तैयार होने के बाद उसको मंजूरी के लिए उच्चाधिकारियों के पास भेजा जाएगा।
    डॉ. प्रवीण कुमार, ऐडमिनिस्ट्रेटर, हूडा
    एनबीटी न्यूज ॥ गुड़गांव
    नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) की अड़चनों को दूर करने पर हूडा, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट और जमीन अधिग्रहण विभाग ने काम करना शुरू कर दिया है। 21 जनवरी तक काम पूरा करने का दावा किया जा रहा है। इसके बाद फाइल सरकार के पास भेजी जाएगी। बता दें कि राह में आ रहे रोड़े को दूर करने के लिए टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट के फाइनैंशल कमिश्नर कम प्रिंसिपल सेक्रेटरी एस. एस. ढिल्लो ने विवादित मकान या प्लॉट के बदले में बिल्डर एरिया में फ्लैट देने के आदेश दिए थे। इसके बाद इस पर काम शुरू किया गया है।
    बताया जा रहा है कि एनपीआर के रास्ते में करीब 500 मकान व खाली प्लॉट आ रहे हैं। इन लोगों ने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में याचिका दायर की हुई है। यहां स्टे मिलने की वजह से करीब 4 किमी एरिया में काम शुरू नहीं किया जा सका है। ढिल्लो ने विवादित मकान या प्लॉट के बदले में बिल्डर एरिया में फ्लैट देने के आदेश दिए थे, इस पर प्लानिंग तैयार की जा रही है। बिल्डर एरिया में 20 प्रतिशत एरिया ईडब्ल्यूएस व एलआईजी श्रेणी के लिए रिजर्व है। बिल्डर को हाउसिंग कॉलोनी में 50 स्क्वेयर मीटर से 125 स्क्वेयर मीटर या इससे अधिक एरिया में फ्लैट डिवेलप करना होता है। इन फ्लैट को एनपीआर के विवादित मकान या प्लॉट के बदले में देने की प्लानिंग की जा रही है। इस कार्य में टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट से सीनियर टाउन प्लैनर व डिस्ट्रिक्ट टाउन प्लैनर, हूडा से सीनियर टाउन प्लैनर व एस्टेट ऑफिसर वन व लैंड एक्वीजेशन ऑफिसर को अलग-अलग जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं।

    ऐडमिनिस्ट्रेटर डॉ. प्रवीण कुमार ने आदेश दिए हैं कि डिस्ट्रिक्ट टाउन प्लैनर, एनपीआर के साथ पड़ने वाले बिल्डर से कॉलोनी का ले-आउट प्लान लेकर 31 दिसंबर तक सीनियर टाउन प्लैनर को सौंपें। इसके बाद डिस्ट्रिक्ट टाउन प्लैनर, एस्टेट ऑफिसर वन व लैंड एक्वीजेशन अफसर मिलकर सर्वे करें। यह देखें कि एनपीआर में कितने मकान या प्लॉट आ रहे हैं। सर्वे के तहत इन्हें मकान या प्लॉट ओनर का नाम, प्लॉट का एरिया, यदि बना हुआ है आदि का ब्यौरा जुटाएं। सूत्रों का कहना है कि 21 जनवरी का पूरा डेटा एकत्र कर लिया जाएगा।


    एनपीआर के रोड़े हटाने पर काम शुरू - NPR started work on removing the ballasts - Navbharat Times
    CommentQuote
  • Originally Posted by abhay1991
    एनपीआर के रोड़े हटाने पर काम शुरू


    कोट
    एनपीआर की अड़चनों को दूर करने की प्लानिंग के तहत तेज गति से काम चल रहा है। विवादित प्लॉट के बदले में बिल्डर एरिया में फ्लैट देने की प्लानिंग चल रही है। अधिकारियों की 5 सदस्यीय टीम को प्लानिंग तैयार करने के निर्देश जारी किए गए हैं। प्लानिंग तैयार होने के बाद उसको मंजूरी के लिए उच्चाधिकारियों के पास भेजा जाएगा।
    डॉ. प्रवीण कुमार, ऐडमिनिस्ट्रेटर, हूडा
    एनबीटी न्यूज ॥ गुड़गांव
    नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) की अड़चनों को दूर करने पर हूडा, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट और जमीन अधिग्रहण विभाग ने काम करना शुरू कर दिया है। 21 जनवरी तक काम पूरा करने का दावा किया जा रहा है। इसके बाद फाइल सरकार के पास भेजी जाएगी। बता दें कि राह में आ रहे रोड़े को दूर करने के लिए टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट के फाइनैंशल कमिश्नर कम प्रिंसिपल सेक्रेटरी एस. एस. ढिल्लो ने विवादित मकान या प्लॉट के बदले में बिल्डर एरिया में फ्लैट देने के आदेश दिए थे। इसके बाद इस पर काम शुरू किया गया है।
    बताया जा रहा है कि एनपीआर के रास्ते में करीब 500 मकान व खाली प्लॉट आ रहे हैं। इन लोगों ने पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में याचिका दायर की हुई है। यहां स्टे मिलने की वजह से करीब 4 किमी एरिया में काम शुरू नहीं किया जा सका है। ढिल्लो ने विवादित मकान या प्लॉट के बदले में बिल्डर एरिया में फ्लैट देने के आदेश दिए थे, इस पर प्लानिंग तैयार की जा रही है। बिल्डर एरिया में 20 प्रतिशत एरिया ईडब्ल्यूएस व एलआईजी श्रेणी के लिए रिजर्व है। बिल्डर को हाउसिंग कॉलोनी में 50 स्क्वेयर मीटर से 125 स्क्वेयर मीटर या इससे अधिक एरिया में फ्लैट डिवेलप करना होता है। इन फ्लैट को एनपीआर के विवादित मकान या प्लॉट के बदले में देने की प्लानिंग की जा रही है। इस कार्य में टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट से सीनियर टाउन प्लैनर व डिस्ट्रिक्ट टाउन प्लैनर, हूडा से सीनियर टाउन प्लैनर व एस्टेट ऑफिसर वन व लैंड एक्वीजेशन ऑफिसर को अलग-अलग जिम्मेदारियां सौंपी गई हैं।


    ऐडमिनिस्ट्रेटर डॉ. प्रवीण कुमार ने आदेश दिए हैं कि डिस्ट्रिक्ट टाउन प्लैनर, एनपीआर के साथ पड़ने वाले बिल्डर से कॉलोनी का ले-आउट प्लान लेकर 31 दिसंबर तक सीनियर टाउन प्लैनर को सौंपें। इसके बाद डिस्ट्रिक्ट टाउन प्लैनर, एस्टेट ऑफिसर वन व लैंड एक्वीजेशन अफसर मिलकर सर्वे करें। यह देखें कि एनपीआर में कितने मकान या प्लॉट आ रहे हैं। सर्वे के तहत इन्हें मकान या प्लॉट ओनर का नाम, प्लॉट का एरिया, यदि बना हुआ है आदि का ब्यौरा जुटाएं। सूत्रों का कहना है कि 21 जनवरी का पूरा डेटा एकत्र कर लिया जाएगा।


    एनपीआर के रोड़े हटाने पर काम शुरू - NPR started work on removing the ballasts - Navbharat Times


    Seems HUDA or Govt themselves dont know whats the solution sector 110a plots now builder flats... Sorry state of affairs..
    CommentQuote
  • This is a road which has come up recently between Pataudi Road and NH8.. Not dew but adjacent to it.. Good clean road..
    Attachments:
    CommentQuote