A lot of companies are advertising for property citing nearness to Dwarka expressway corridor.

Shilas, Indiabulls Centrum Park and Ramprastha Edge Tower come to mind.

Does anybody have news on when this construction will start and when it is likely to finish? Has the contract been awarded and to whom?
Date of completion and start of operation will be vital news for evaluating the pricing of flats sold in this corridor.

Last I heard was that a few houses in Palam Vihar were slated for demolition for this expressway in May June 09 or thereabouts.
Read more
Reply
19768 Replies
Sort by :Filter by :
  • What happened to the news that there would be construction work on 1200 meter litigation free area in NPV. Any updates about that.I mean have they started any work in the litigation free area?
    CommentQuote
  • HUDA's planning is very poor at least they can start the work in non litigation areas.
    When litigation area is only left to construct then there will be apressure build up on the citizens of litigation area to leave the place and take appropriate compensation money.

    Any body dislike pl ignore
    CommentQuote
  • एनपीआर : न्यू पालम विहार में कब्जे हटाए

    एनबीटी न्यूज ॥ गुड़गांव
    एस्टेट अफसर-1 ने गुरुवार को नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) पर तोड़फोड़ अभियान चलाया। सबसे पहले दस्ता एनपीआर पर न्यू पालम विहार कॉलोनी के पास पहंुचा। यहां अवैध रूप से 500 गज जमीन पर निर्माणाधीन एक मकान को ढहा दिया गया। इसके अलावा कई चारदीवारी भी तोड़ी गई। करीब 15 एकड़ जमीन पर कब्जा ले लिया गया है, जहां अब एनपीआर का रास्ता साफ हो गया है। इस दौरान पुलिस फोर्स मौजूद थी।
    न्यू पालम विहार में एनपीआर के 1660 मीटर पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे नहीं है, लेकिन लोग इस एरिया में रोड का निर्माण नहीं होने दे रहे थे। गुरुवार सुबह 9 बजे एस्टेट ऑफिसर वन नरेंद्र सिंह यादव की अगुवाई में तोड़फोड़ दस्ता न्यू पालम विहार के समीप पहुंचा। इसकी सूचना पर लोग भी मौके पर पहुंच गए और विरोध करने लगे। उनका कहना था कि तोड़फोड़ के दौरान अब उनका मकान भी तोड़ दिया जाएगा। यादव ने कहा कि उन्हें मकान के बदले में प्लॉट या फ्लैट देने की प्लानिंग चल रही है। इस मौके पर ऐडमिनिस्ट्रेटर के पीएस सर्वेश जून, एसडीओ (सर्वे) रतन सिंह सिवाच, जेई जसवंत सिंह, अजमेर सिंह, संदीप लोट व वीरेंद्र चौहान मौजूद थे।
    बता दें कि इंजीनियरिंग सेल ने इस मामले से एस्टेट ऑफिसर वन को दो महीने पहले अवगत करवा दिया था। उनसे आग्रह किया गया था कि पुलिस फोर्स मुहैया करवाई जाए, जिससे कि यहां से एनपीआर को निकाला जा सके।
    CommentQuote
  • will this new sense of urgency due to some danda or genuine desie ??

    -----------------------------------


    नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) का विरोध कर रहे पालम विहार के लोगों ने गुरुवार शाम को टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट के फाइनैंशल कमिश्नर कम प्रिंसिपल सेक्रेटरी एस. एस. ढिल्लो का घेराव कर लिया। लोगों की मांग थी कि उनके घरों को उजाड़ा नहीं जाए। एनपीआर की अलाइनमेंट में बदलाव की जाए। यदि ऐसा संभव नहीं है तो उन्हें प्लॉट के बदले में सेक्टर-110 ए में प्लॉट दिया जाए। साथ ही साथ मार्केट रेट के हिसाब से निर्माण का मुआवजा दिया जाए।
    एनपीआर की अड़चनों को दूर करने को लेकर गुरुवार शाम को ढिल्लो ने हूडा और टीसीपी के तमाम आला अधिकारियों की मीटिंग बुलाई। इसमें टीसीपी के डायरेक्टर अनुराग रस्तोगी, अर्बन एस्टेट के डायरेक्टर जसवंत सिंह, ऐडमिनिस्ट्रेटर डॉ. प्रवीण कुमार, चीफ इंजीनियर पंकज कुमरा, सुपरिंटेंडेंट इंजीनियर आदर्श कुमार गुप्ता, इग्जेक्युटिव इंजीनियर अनिल कुमार माकन, सीनियर टाउन प्लैनर आर. के. सिंह व मधु प्रदीप, एस्टेट अफसर वन नरेंद्र सिंह यादव मौजूद थे। इस दौरान फाइनैंशल कमिश्नर ने कहा कि कोई भी चर्चा करने से पहले एनपीआर की विजिट की जाएगी। वहां पर जाकर मौके का मुआयना किया जाएगा।
    अधिकारियों की गाडि़यों का काफिला पहुंचते ही न्यू पालम विहार के लोग एकत्र होना शुरू हो गए। उन्होंने फाइनैंशल कमिश्नर को घेर लिया। उनसे कहा गया कि उनके घरों पर बुलडोजर नहीं चलाया जाए। उन्हें बताया गया कि पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने उनके मकानों पर स्टे दिया हुआ है। हाई कोर्ट का आदेश आने के बाद ही कोई कदम उठाया जाए। लोगों ने आग्रह किया कि उन्हें फ्लैट नहीं प्लॉट चाहिए। ढिल्लो ने उन्हें आश्वासन दिया कि उनके साथ अन्याय नहीं किया जाएगा। न्यू पालम विहार में अधिकारियों का काफिला जैसे ही आधा किलोमीटर आगे बढ़ा तो फिर स्थानीय लोगों ने उन्हें घेर लिया और अपनी मांगों को उनके समक्ष रखा। दौरे के बाद वह करीब 7.30 बजे हूडा जिमखाना क्लब लौटे, जहां अधिकारियों की मीटिंग ली गई।

    इस दौरान उन्होंने एक अधिकारी की जमकर फटकार लगाई। उन्हें कहा गया कि एनपीआर पर नए निर्माण हो रहे हैं, उसे रोकने को लेकर अब तक कोई प्रबंध क्यों नहीं किया गया। सारा दिन ऑफिस में बैठने की बजाय बाहर निकलकर अपने एरिया का सर्वे करना चाहिए। उन्होंने सख्त लहजों में कहा कि जहां कोर्ट का स्टे नहीं है वहां काम स्पीड में होना चाहिए। जिन फैक्ट्री, मकान व प्लॉट मालिकों ने मुआवजा उठा लिया है, वहां रोड को तैयार किया जाए। सेक्टर-110 ए का ले-आउट प्लान अतिशीघ्र तैयार किया जाए। इस कार्य में किसी तरह की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

    न्यू पालम विहार में फाइनैंशल कमिश्नर को घेरा - New Palam Vihar, Financial Commissioner Scope - Navbharat Times
    CommentQuote
  • Originally Posted by kinjalchato
    will this new sense of urgency due to some danda or genuine desie ??

    -----------------------------------


    नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) का विरोध कर रहे पालम विहार के लोगों ने गुरुवार शाम को टाउन एंड कंट्री प्लानिंग डिपार्टमेंट के फाइनैंशल कमिश्नर कम प्रिंसिपल सेक्रेटरी एस. एस. ढिल्लो का घेराव कर लिया। लोगों की मांग थी कि उनके घरों को उजाड़ा नहीं जाए। एनपीआर की अलाइनमेंट में बदलाव की जाए। यदि ऐसा संभव नहीं है तो उन्हें प्लॉट के बदले में सेक्टर-110 ए में प्लॉट दिया जाए। साथ ही साथ मार्केट रेट के हिसाब से निर्माण का मुआवजा दिया जाए।
    एनपीआर की अड़चनों को दूर करने को लेकर गुरुवार शाम को ढिल्लो ने हूडा और टीसीपी के तमाम आला अधिकारियों की मीटिंग बुलाई। इसमें टीसीपी के डायरेक्टर अनुराग रस्तोगी, अर्बन एस्टेट के डायरेक्टर जसवंत सिंह, ऐडमिनिस्ट्रेटर डॉ. प्रवीण कुमार, चीफ इंजीनियर पंकज कुमरा, सुपरिंटेंडेंट इंजीनियर आदर्श कुमार गुप्ता, इग्जेक्युटिव इंजीनियर अनिल कुमार माकन, सीनियर टाउन प्लैनर आर. के. सिंह व मधु प्रदीप, एस्टेट अफसर वन नरेंद्र सिंह यादव मौजूद थे। इस दौरान फाइनैंशल कमिश्नर ने कहा कि कोई भी चर्चा करने से पहले एनपीआर की विजिट की जाएगी। वहां पर जाकर मौके का मुआयना किया जाएगा।
    अधिकारियों की गाडि़यों का काफिला पहुंचते ही न्यू पालम विहार के लोग एकत्र होना शुरू हो गए। उन्होंने फाइनैंशल कमिश्नर को घेर लिया। उनसे कहा गया कि उनके घरों पर बुलडोजर नहीं चलाया जाए। उन्हें बताया गया कि पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने उनके मकानों पर स्टे दिया हुआ है। हाई कोर्ट का आदेश आने के बाद ही कोई कदम उठाया जाए। लोगों ने आग्रह किया कि उन्हें फ्लैट नहीं प्लॉट चाहिए। ढिल्लो ने उन्हें आश्वासन दिया कि उनके साथ अन्याय नहीं किया जाएगा। न्यू पालम विहार में अधिकारियों का काफिला जैसे ही आधा किलोमीटर आगे बढ़ा तो फिर स्थानीय लोगों ने उन्हें घेर लिया और अपनी मांगों को उनके समक्ष रखा। दौरे के बाद वह करीब 7.30 बजे हूडा जिमखाना क्लब लौटे, जहां अधिकारियों की मीटिंग ली गई।

    इस दौरान उन्होंने एक अधिकारी की जमकर फटकार लगाई। उन्हें कहा गया कि एनपीआर पर नए निर्माण हो रहे हैं, उसे रोकने को लेकर अब तक कोई प्रबंध क्यों नहीं किया गया। सारा दिन ऑफिस में बैठने की बजाय बाहर निकलकर अपने एरिया का सर्वे करना चाहिए। उन्होंने सख्त लहजों में कहा कि जहां कोर्ट का स्टे नहीं है वहां काम स्पीड में होना चाहिए। जिन फैक्ट्री, मकान व प्लॉट मालिकों ने मुआवजा उठा लिया है, वहां रोड को तैयार किया जाए। सेक्टर-110 ए का ले-आउट प्लान अतिशीघ्र तैयार किया जाए। इस कार्य में किसी तरह की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

    न्यू पालम विहार में फाइनैंशल कमिश्नर को घेरा - New Palam Vihar, Financial Commissioner Scope - Navbharat Times


    After few days everyone shall forget and again start blaming to HC and litigants for not solving the issue.

    HUDA can't provide the land in 110a, because this is also in litigation and now they don't has any choice. Still I feel before new land acquisition bill become law before that HUDA must settle the issue otherwise the compensation could be quite hefty and provision in new bill are quite cumbersome to get acquire the land easily. 67%min consent is required which seems not possible in present situation. Just wait and watch...
    CommentQuote
  • This is basically an election DANDA from Mr Hooda who is now looking for creating an impressive Election manifesto for 2014
    CommentQuote
  • Bhallaji - do you expect any major breakthrough before the elections on the D way issue?
    CommentQuote
  • absolutely , the next six months are very very crucial and ye garmi garmi mein hi saari problems ka solution niklega , Dekhte jaao , Bhupinder Hooda is a very smart fellow
    CommentQuote
  • Originally Posted by amit.bhalla
    absolutely , the next six months are very very crucial and ye garmi garmi mein hi saari problems ka solution niklega , Dekhte jaao , Bhupinder Hooda is a very smart fellow



    Bhallajee!!!!

    Just read your post on another thread.. where you are suggesting palam vihar thread... I have wanting to know.. what would be the effect of a functional DEW on palam vihar...

    thoda prakash daalen....
    CommentQuote
  • Deway will finally sort out the Biggest drawback of PV - the APPROACH , Having direct connectivity to the Eway will be a boon for PV and with metro work to start in the next 6 months , I expect palam vihar to atleast double in the next 3 years.
    CommentQuote
  • Originally Posted by amit.bhalla
    Deway will finally sort out the Biggest drawback of PV - the APPROACH , Having direct connectivity to the Eway will be a boon for PV and with metro work to start in the next 6 months , I expect palam vihar to atleast double in the next 3 years.



    I too thought so... i mean i wont comment on the quantam of increase or the time frame but yeah a functional DEW should bring a lot of good news for PV...
    Accha ye batao, ke once DEW is functional, how far would be the entry point of PV from the expressway..??? I am guessing less than 2 odd kms..

    What are the present prices in reasonably good( not the best or the worst)... blocks of PV???
    CommentQuote
  • entry would be approx a 500-700m at max from PV and the good blocks of pv are J, G , K price approx 80k to 1lac and worst are C1,C2 60k to 80k and E,F and D , I are ok types with prices being 75-90k depending on loc and size
    CommentQuote
  • Missing Ulti Chakri.....
    CommentQuote
  • What will be the impact of DEW on New Palam Vihar prices .... the prices are around 35K now ... what will be the prices for the areas which are touching DEW ... like the Sector 110 ... there are very less plots in whole area of DEW ... NPV will be the area which have plots available and is close to delhi and DEW ... please suggest ...
    CommentQuote
  • HUDA drive for Northern Peripheral Road project meets with angry protest

    A team of HUDA officials, set out to demolish a factory, which had come in way of the Northern Peripheral Road (NPR) project, had to face the ire of the angry residents of New Palam Vihar Colony on Friday morning.

    The demolition team had landed at Sector 37 part two for the demolition of the factory. They had to make a hasty retreat from the site

    when the residents became angry. According to HUDA officials, the factory land falls under the route of the NPR project and the owner had been informed about the status. Earlier, HUDA had surveyed all locations falling under the NPR project and identified seven factories at different location on the route.

    On Friday morning, the HUDA team faced angry residents who topped them from demolishing any structure. The residents were informed that the factory did not fall under the High Court order on the stay. "The high court order is valid for house owners of New Palam Vihar colonies and the factory does not figure in that. But the residents became angry and abusive," said a HUDA official, on condition of anonymity.

    HUDA has started a demolition drive to clear encroachments on the route of the NPR project. However, on the first day, the officials failed to clear the factory premises.

    HUDA had swung into action after the visit of the finance commissioner, Department of Town and Country Planning (DTCP), SS Dhillion in Gurgaon on Thursday. Sources said Dhillion pulled up the officials deputed to monitor the NPR project in the meeting held on Thursday. Sources said the finance commissioner had given instruction to HUDA officials to start taking over the possession of land and construction in the areas, which are not covered in High Court order. "The private factories had been issued notices and now the strategy is to clear these area first and start the construction work," said a senior HUDA official.

    Earlier, Dhillion had assured the residents of New Palam Vihar that the houses coming in way of the development of the NPR project will suitably rehabilitated as per the Punjab and Haryana High court directions.

    On Thursday, Dhillon, with HUDA and DTCP senior officials, was in Gurgaon for site inspection of the NPR project and around evening when they reached new Palam Vihar colony residents launched an agitation. About 1 km of the proposed road passes through the colony and if the road alignment is not changed, it would require over 300 houses to be demolished



    HUDA drive for Northern Peripheral Road project meets with angry protest - The Times of India
    CommentQuote