Announcement

Collapse
No announcement yet.

NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

Collapse
This is a sticky topic.
X
X
Collapse

NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

Last updated: 1 day ago
21917 | Posts
  • Time
  • Show
Clear All
new posts

  • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

    Going a little more macro - This McKinsey report is for long term investors. In essence there are risks and opportunitites. This kind of expansion will definitely lead to more demand for space (Residential and commercial). Delhi itself from GDP perspective moves from 48 to 211 bn gdp by 2025 along with 30% jump in population. Thats a huge jump. For Long term investor, a cautious approach investing in select areas where good infra and planning can bear fruit for sure. Baki short term punting can go either ways

    India’s high-stakes urban challenge
    The country’s cities are expanding explosively. A new report from the McKinsey Global Institute considers how policy makers might respond.
    Source: McKinsey Global Institute


    India’s cities are expanding on a larger scale and at a faster pace than ever before. To date, though, the country has avoided dealing with the hard questions about how best to manage its massive urbanization. The policy vacuum may lead to worsening urban decay, poor quality of life for citizens, and a reluctance among investors to commit funds to projects in India’s urban centers.
    A new report from the McKinsey Global Institute (MGI)—India’s urban awakening: Building inclusive cities, sustaining economic growth—finds that a lack of effective policies to manage urbanization could jeopardize India’s GDP growth rate. But international experience shows that India culd turn its cities around in a decade. If the country makes and executes the right policy choices, it could boost annual GDP by 1 to 1.5 percentage points, taking the economy close to the double-digit growth it needs to create sufficient jobs for the 270 million people expected to enter the working-age population over the next 20 years.
    The report projects that the country’s urban population will soar to 590 million in 2030, from 340 million in 2008. India’s cities could generate 70 percent of the net new jobs created by 2030, produce more than 70 percent of the country’s GDP, and stimulate a near-fourfold increase in per capita income.
    These economic trends will unlock many new markets and investment opportunities in, for example, infrastructure, transportation, health care, education, and recreation. In infrastructure, MGI projects that the economy will need 700 million to 900 million square meters of new residential and commercial space a year—equivalent to adding more than two Mumbais or one Chicago. In transportation, India will require 350 to 400 kilometers of new subway lines annually (more than 20 times the subway capacity built over the last decade) and between 19,000 and 25,000 kilometers of roads (nearly equivalent to the amount India has built over the last ten years). Yet India has traditionally underinvested in its cities compared with the countries of other urban centers around the world
    Managed poorly, India’s cities will fall further into decay and gridlock, and today’s growth trajectory could even be called into question. Handled well, this urban expansion will be the key to India’s continuing economic success

    https://www.mckinseyquarterly.com/wr...cine11_exhibit
    Last edited by ashu_sharmaa; February 26 2013, 07:41 AM.

    Comment


    • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

      एनपीआर की राह में बड़ा ब्रेकर

      सेक्टर 110 ए में अधिग्रहीत 38 में से 35 एकड़ जमीन पर होई कोर्ट का स्टे
      14 अलग-अलग याचिकाएं लंबित, 4 माह पहले ही किया था अधिग्रहण #
      मौजूदा स्थिति
      11 किमी एरिया में निर्माण चल रहा है
      2 किमी में समतल की जा रही जमीन
      10.45 किमी में जीएसबी का कार्य पूरा

      9.70 किमी में डीबीएम व बीसी का कार्य संपन्न
      7.20 किमी में सड़क किनारे टाइलें भी लगाई गईं
      कोट
      सेक्टर-110 ए को लेकर अधिग्रहीत अधिकांश जमीन पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने स्टे लगा दिया है। हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व और स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि सेक्टर 110 ए से स्टे हटाया जाए।
      -प्रवीण कुमार, ऐडमिनिस्ट्रेटर, हूडा
      दीपक आहूजा ॥ गुड़गांव
      नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। एक समस्या सुलझती नहीं है कि दूसरी खड़ी हो जाती है। विवाद सुलझाने के लिए 4 माह पहले हूडा ने सेक्टर 110 ए के अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी की थी। अब पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने अधिग्रहीत 38 एकड़ जमीन में से 35 एकड़ पर स्टे लगा दिया। हाई कोर्ट में अधिग्रहण के विरोध में अलग-अलग 14 याचिकाएं विचाराधीन हैं। जब तक यह मामला नहीं सुलझ जाता है, तब तक एनपीआर का रफ्तार पकड़ना बहुत कठिन है। इस मामले में स्थानीय अधिकारियों का तर्क है कि हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व व स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि स्टे हटाया जाए।
      विवाद सुलझाने के लिए चाहिए 220 प्लॉट
      एनपीआर के विवाद को दूर करने का लेकर इसका सर्वे कराया गया है। सूत्रों ने बताया कि इसमें पाया गया कि इसके बीच में 220 प्लॉट व मकान आ रहे हैं। न्यू पालम विहार, चौमा व खेड़कीदौला गांव में यह प्लॉट 100 से लेकर 500 गज के बीच में हैं। वर्ष 2010 से इन प्लॉट व मकान के ऊपर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इनके बदले में अल्टरनेट प्लॉट देने के लिए सेक्टर 110 ए में अधिग्रहण किया गया था। कुल 4 मरला के 87, 6 मरला के 47, 8 मरला के 23, 10 मरला के 25 व 14 मरला के 38 प्लॉट की आवश्यकता है।
      कहां - कहां मुख्य अड़चन
      गांव खेड़कीदौला के समीप एंट्री पर ही विवाद है। आरडी 100 से 300 मीटर (200 मीटर ) तक का एरिया पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में विचाराधीन है।
      आरडी 2200 से 2300 मीटर (100 मीटर ) के हिस्से में हाई कोर्ट का स्टे।
      आरडी 3220 से 3300 मीटर (80) में 66 केवीए की हाई टेंशन लाइन। इन्हें शिफ्ट करने को लेकर 19.54 करोड़ रुपये का एस्टिमेट किया गया तैयार।
      आरडी 3400 से 3975 मीटर (575 मीटर ) एरिया में निर्माण कार्य शुरू करने की एचएसआईआईडीसी से नहीं मिली परमीशन। बिना परमीशन काम शुरू करवाया गया , लेकिन रुकवा दिया गया।
      आरडी 4200 से 4330 मीटर (130 मीटर ) एरिया में मंदिर व तालाब आ रहे हैं।
      आरडी 8285 से 8315 मीटर (100 मीटर ) एरिया में गांव बसई स्थित वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का रॉ वॉटर पंप हाउस आ रहा है। अभी तक नये पंप हाउस का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है।
      गांव बसई में रेलवे लाइन को क्रॉस करने को लेकर आरओबी का निर्माण किया जाना है। इसमें 125 करोड़ रुपये की लागत आएगी। अब तक रेलवे को पेमेंट नहीं की गई है।
      आरडी 12900 से 16550 मीटर तक अधिकांश एरिया में पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इसमें न्यू पालम विहार के 175 मकान आ रहे हैं।
      क्या है एनपीआर
      एनपीआर , एनएच 8 पर गांव खेड़कीदौला से शुरू होकर दिल्ली में द्वारका पर जाकर मिलेगा। इसकी लंबाई 18 किमी है। 1 अप्रैल , 2011 को 14 किमी के निर्माण का टेंडर 44.08 करोड़ रुपये में अलॉट किया गया था। निर्माण कार्य 12 महीनों के अंदर पूरा किया जाना था , लेकिन अड़चनों की वजह से अब तक निर्माण कार्य पूरा नहीं किया जा सका है। इस रोड की चौड़ाई कुल चौड़ाई 150 मीटर है। मौजूदा समय में 12.5x12.5 मीटर में काम किया जा रहा है। 10 मीटर की सेंट्रल वर्ज है और सड़क के साथ में दोनों तरफ 3.5 मीटर का फुटपाथ है। एनपीआर को क्लियर करने को लेकर करीब 70 एकड़ लैंड की आवश्यकता है।

      एनपीआर की राह में बड़ा ब्रेकर - NPR's way bigger breaker - Navbharat Times
      NEVER BUY ANY PROPERTY BY SEEING COMMENTS ALWAYS VISIT LOCATION

      Comment


      • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

        [QUOTE=abhay;743117]सेक्टर 110 ए में अधिग्रहीत 38 में से 35 एकड़ जमीन पर होई कोर्ट का स्टे

        From this news how we can expect that there is a resolution in the hand of Mr. Praveen kumar and the matter is nearly setteled outside the court?
        IF HUDA is not having the clear land to provide it to the litigants in place of their houses, i think on 4th march again the old story repeated.

        Comment


        • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

          Originally posted by abhay View Post
          सेक्टर 110 ए में अधिग्रहीत 38 में से 35 एकड़ जमीन पर होई कोर्ट का स्टे
          14 अलग-अलग याचिकाएं लंबित, 4 माह पहले ही किया था अधिग्रहण #
          मौजूदा स्थिति
          11 किमी एरिया में निर्माण चल रहा है
          2 किमी में समतल की जा रही जमीन
          10.45 किमी में जीएसबी का कार्य पूरा

          9.70 किमी में डीबीएम व बीसी का कार्य संपन्न
          7.20 किमी में सड़क किनारे टाइलें भी लगाई गईं
          कोट
          सेक्टर-110 ए को लेकर अधिग्रहीत अधिकांश जमीन पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने स्टे लगा दिया है। हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व और स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि सेक्टर 110 ए से स्टे हटाया जाए।
          -प्रवीण कुमार, ऐडमिनिस्ट्रेटर, हूडा
          दीपक आहूजा ॥ गुड़गांव
          नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। एक समस्या सुलझती नहीं है कि दूसरी खड़ी हो जाती है। विवाद सुलझाने के लिए 4 माह पहले हूडा ने सेक्टर 110 ए के अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी की थी। अब पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने अधिग्रहीत 38 एकड़ जमीन में से 35 एकड़ पर स्टे लगा दिया। हाई कोर्ट में अधिग्रहण के विरोध में अलग-अलग 14 याचिकाएं विचाराधीन हैं। जब तक यह मामला नहीं सुलझ जाता है, तब तक एनपीआर का रफ्तार पकड़ना बहुत कठिन है। इस मामले में स्थानीय अधिकारियों का तर्क है कि हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व व स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि स्टे हटाया जाए।
          विवाद सुलझाने के लिए चाहिए 220 प्लॉट
          एनपीआर के विवाद को दूर करने का लेकर इसका सर्वे कराया गया है। सूत्रों ने बताया कि इसमें पाया गया कि इसके बीच में 220 प्लॉट व मकान आ रहे हैं। न्यू पालम विहार, चौमा व खेड़कीदौला गांव में यह प्लॉट 100 से लेकर 500 गज के बीच में हैं। वर्ष 2010 से इन प्लॉट व मकान के ऊपर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इनके बदले में अल्टरनेट प्लॉट देने के लिए सेक्टर 110 ए में अधिग्रहण किया गया था। कुल 4 मरला के 87, 6 मरला के 47, 8 मरला के 23, 10 मरला के 25 व 14 मरला के 38 प्लॉट की आवश्यकता है।
          कहां - कहां मुख्य अड़चन
          गांव खेड़कीदौला के समीप एंट्री पर ही विवाद है। आरडी 100 से 300 मीटर (200 मीटर ) तक का एरिया पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में विचाराधीन है।
          आरडी 2200 से 2300 मीटर (100 मीटर ) के हिस्से में हाई कोर्ट का स्टे।
          आरडी 3220 से 3300 मीटर (80) में 66 केवीए की हाई टेंशन लाइन। इन्हें शिफ्ट करने को लेकर 19.54 करोड़ रुपये का एस्टिमेट किया गया तैयार।
          आरडी 3400 से 3975 मीटर (575 मीटर ) एरिया में निर्माण कार्य शुरू करने की एचएसआईआईडीसी से नहीं मिली परमीशन। बिना परमीशन काम शुरू करवाया गया , लेकिन रुकवा दिया गया।
          आरडी 4200 से 4330 मीटर (130 मीटर ) एरिया में मंदिर व तालाब आ रहे हैं।
          आरडी 8285 से 8315 मीटर (100 मीटर ) एरिया में गांव बसई स्थित वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का रॉ वॉटर पंप हाउस आ रहा है। अभी तक नये पंप हाउस का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है।
          गांव बसई में रेलवे लाइन को क्रॉस करने को लेकर आरओबी का निर्माण किया जाना है। इसमें 125 करोड़ रुपये की लागत आएगी। अब तक रेलवे को पेमेंट नहीं की गई है।
          आरडी 12900 से 16550 मीटर तक अधिकांश एरिया में पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इसमें न्यू पालम विहार के 175 मकान आ रहे हैं।
          क्या है एनपीआर
          एनपीआर , एनएच 8 पर गांव खेड़कीदौला से शुरू होकर दिल्ली में द्वारका पर जाकर मिलेगा। इसकी लंबाई 18 किमी है। 1 अप्रैल , 2011 को 14 किमी के निर्माण का टेंडर 44.08 करोड़ रुपये में अलॉट किया गया था। निर्माण कार्य 12 महीनों के अंदर पूरा किया जाना था , लेकिन अड़चनों की वजह से अब तक निर्माण कार्य पूरा नहीं किया जा सका है। इस रोड की चौड़ाई कुल चौड़ाई 150 मीटर है। मौजूदा समय में 12.5x12.5 मीटर में काम किया जा रहा है। 10 मीटर की सेंट्रल वर्ज है और सड़क के साथ में दोनों तरफ 3.5 मीटर का फुटपाथ है। एनपीआर को क्लियर करने को लेकर करीब 70 एकड़ लैंड की आवश्यकता है।

          एनप€†र •€ राह म‡‚ बड़ा ब्र‡•र - NPR's way bigger breaker - Navbharat Times
          This article , if true, reconciles different issues being raised by different people for and against DEW in this forum .

          1. so ds1970 was correct when he stated that the acquisition of land in 110a for giving altenate plots is itself under High court stay.

          2. others were also correct that arrangements have been made to give plots in lieu of plots and that will enable a resolution.

          Overall still the issues stopping the work are very much there and will require lot of effort to solve them.

          The specific details mentioned in this article lends it some degeee of authenticity.

          Comment


          • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

            Situation looks pretty grim, uncertain & very dicey .

            Lets hope for the best .


            Originally posted by MANOJa View Post
            If this is true, looks like that NPR is scheduled for another round of litigation & unprecedented delays .

            ...........& if no solution is found in the coming months, we could see mass panic selling here .
            Originally posted by abhay View Post
            सेक्टर 110 ए में अधिग्रहीत 38 में से 35 एकड़ जमीन पर होई कोर्ट का स्टे
            14 अलग-अलग याचिकाएं लंबित, 4 माह पहले ही किया था अधिग्रहण #
            मौजूदा स्थिति
            11 किमी एरिया में निर्माण चल रहा है
            2 किमी में समतल की जा रही जमीन
            10.45 किमी में जीएसबी का कार्य पूरा

            9.70 किमी में डीबीएम व बीसी का कार्य संपन्न
            7.20 किमी में सड़क किनारे टाइलें भी लगाई गईं
            कोट
            सेक्टर-110 ए को लेकर अधिग्रहीत अधिकांश जमीन पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने स्टे लगा दिया है। हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व और स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि सेक्टर 110 ए से स्टे हटाया जाए।
            -प्रवीण कुमार, ऐडमिनिस्ट्रेटर, हूडा
            दीपक आहूजा ॥ गुड़गांव
            नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। एक समस्या सुलझती नहीं है कि दूसरी खड़ी हो जाती है। विवाद सुलझाने के लिए 4 माह पहले हूडा ने सेक्टर 110 ए के अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी की थी। अब पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने अधिग्रहीत 38 एकड़ जमीन में से 35 एकड़ पर स्टे लगा दिया। हाई कोर्ट में अधिग्रहण के विरोध में अलग-अलग 14 याचिकाएं विचाराधीन हैं। जब तक यह मामला नहीं सुलझ जाता है, तब तक एनपीआर का रफ्तार पकड़ना बहुत कठिन है। इस मामले में स्थानीय अधिकारियों का तर्क है कि हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व व स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि स्टे हटाया जाए।
            विवाद सुलझाने के लिए चाहिए 220 प्लॉट
            एनपीआर के विवाद को दूर करने का लेकर इसका सर्वे कराया गया है। सूत्रों ने बताया कि इसमें पाया गया कि इसके बीच में 220 प्लॉट व मकान आ रहे हैं। न्यू पालम विहार, चौमा व खेड़कीदौला गांव में यह प्लॉट 100 से लेकर 500 गज के बीच में हैं। वर्ष 2010 से इन प्लॉट व मकान के ऊपर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इनके बदले में अल्टरनेट प्लॉट देने के लिए सेक्टर 110 ए में अधिग्रहण किया गया था। कुल 4 मरला के 87, 6 मरला के 47, 8 मरला के 23, 10 मरला के 25 व 14 मरला के 38 प्लॉट की आवश्यकता है।
            कहां - कहां मुख्य अड़चन
            गांव खेड़कीदौला के समीप एंट्री पर ही विवाद है। आरडी 100 से 300 मीटर (200 मीटर ) तक का एरिया पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में विचाराधीन है।
            आरडी 2200 से 2300 मीटर (100 मीटर ) के हिस्से में हाई कोर्ट का स्टे।
            आरडी 3220 से 3300 मीटर (80) में 66 केवीए की हाई टेंशन लाइन। इन्हें शिफ्ट करने को लेकर 19.54 करोड़ रुपये का एस्टिमेट किया गया तैयार।
            आरडी 3400 से 3975 मीटर (575 मीटर ) एरिया में निर्माण कार्य शुरू करने की एचएसआईआईडीसी से नहीं मिली परमीशन। बिना परमीशन काम शुरू करवाया गया , लेकिन रुकवा दिया गया।
            आरडी 4200 से 4330 मीटर (130 मीटर ) एरिया में मंदिर व तालाब आ रहे हैं।
            आरडी 8285 से 8315 मीटर (100 मीटर ) एरिया में गांव बसई स्थित वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का रॉ वॉटर पंप हाउस आ रहा है। अभी तक नये पंप हाउस का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है।
            गांव बसई में रेलवे लाइन को क्रॉस करने को लेकर आरओबी का निर्माण किया जाना है। इसमें 125 करोड़ रुपये की लागत आएगी। अब तक रेलवे को पेमेंट नहीं की गई है।
            आरडी 12900 से 16550 मीटर तक अधिकांश एरिया में पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इसमें न्यू पालम विहार के 175 मकान आ रहे हैं।
            क्या है एनपीआर
            एनपीआर , एनएच 8 पर गांव खेड़कीदौला से शुरू होकर दिल्ली में द्वारका पर जाकर मिलेगा। इसकी लंबाई 18 किमी है। 1 अप्रैल , 2011 को 14 किमी के निर्माण का टेंडर 44.08 करोड़ रुपये में अलॉट किया गया था। निर्माण कार्य 12 महीनों के अंदर पूरा किया जाना था , लेकिन अड़चनों की वजह से अब तक निर्माण कार्य पूरा नहीं किया जा सका है। इस रोड की चौड़ाई कुल चौड़ाई 150 मीटर है। मौजूदा समय में 12.5x12.5 मीटर में काम किया जा रहा है। 10 मीटर की सेंट्रल वर्ज है और सड़क के साथ में दोनों तरफ 3.5 मीटर का फुटपाथ है। एनपीआर को क्लियर करने को लेकर करीब 70 एकड़ लैंड की आवश्यकता है।

            एनप€†र •€ राह म‡‚ बड़ा ब्र‡•र - NPR's way bigger breaker - Navbharat Times
            Download our Android App! | Please Read IREF Rules | FAQ's

            Comment


            • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

              Originally posted by kinjalchato View Post
              This article , if true, reconciles different issues being raised by different people for and against DEW in this forum .

              1. so ds1970 was correct when he stated that the acquisition of land in 110a for giving altenate plots is itself under High court stay.

              2. others were also correct that arrangements have been made to give plots in lieu of plots and that will enable a resolution.

              Overall still the issues stopping the work are very much there and will require lot of effort to solve them.

              The specific details mentioned in this article lends it some degeee of authenticity.
              We are always against DS1970 but in last his wordings came true.

              Comment


              • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

                I don't trust this news paper.Few days back same news paper giving different news in favor of Huda that settlement is done don't the paper check about sec 110 a as litigation issue.I don't trust this news.How can Huda gov say that we give plots in 110a Huda can not lie this way to people.Some think not right here.

                Comment


                • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

                  Why always this news paper only comes with NPR news why not any other major news papers like time or Hindustan times or economy times has this news

                  Comment


                  • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

                    Originally posted by abhay View Post
                    सेक्टर 110 ए में अधिग्रहीत 38 में से 35 एकड़ जमीन पर होई कोर्ट का स्टे
                    14 अलग-अलग याचिकाएं लंबित, 4 माह पहले ही किया था अधिग्रहण #
                    मौजूदा स्थिति
                    11 किमी एरिया में निर्माण चल रहा है
                    2 किमी में समतल की जा रही जमीन
                    10.45 किमी में जीएसबी का कार्य पूरा

                    9.70 किमी में डीबीएम व बीसी का कार्य संपन्न
                    7.20 किमी में सड़क किनारे टाइलें भी लगाई गईं
                    कोट
                    सेक्टर-110 ए को लेकर अधिग्रहीत अधिकांश जमीन पर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने स्टे लगा दिया है। हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व और स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि सेक्टर 110 ए से स्टे हटाया जाए।
                    -प्रवीण कुमार, ऐडमिनिस्ट्रेटर, हूडा
                    दीपक आहूजा ॥ गुड़गांव
                    नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। एक समस्या सुलझती नहीं है कि दूसरी खड़ी हो जाती है। विवाद सुलझाने के लिए 4 माह पहले हूडा ने सेक्टर 110 ए के अधिग्रहण की प्रक्रिया पूरी की थी। अब पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने अधिग्रहीत 38 एकड़ जमीन में से 35 एकड़ पर स्टे लगा दिया। हाई कोर्ट में अधिग्रहण के विरोध में अलग-अलग 14 याचिकाएं विचाराधीन हैं। जब तक यह मामला नहीं सुलझ जाता है, तब तक एनपीआर का रफ्तार पकड़ना बहुत कठिन है। इस मामले में स्थानीय अधिकारियों का तर्क है कि हाई कोर्ट के समक्ष एनपीआर के महत्व व स्थिति को रखा जाएगा। अपील की जाएगी कि स्टे हटाया जाए।
                    विवाद सुलझाने के लिए चाहिए 220 प्लॉट
                    एनपीआर के विवाद को दूर करने का लेकर इसका सर्वे कराया गया है। सूत्रों ने बताया कि इसमें पाया गया कि इसके बीच में 220 प्लॉट व मकान आ रहे हैं। न्यू पालम विहार, चौमा व खेड़कीदौला गांव में यह प्लॉट 100 से लेकर 500 गज के बीच में हैं। वर्ष 2010 से इन प्लॉट व मकान के ऊपर पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इनके बदले में अल्टरनेट प्लॉट देने के लिए सेक्टर 110 ए में अधिग्रहण किया गया था। कुल 4 मरला के 87, 6 मरला के 47, 8 मरला के 23, 10 मरला के 25 व 14 मरला के 38 प्लॉट की आवश्यकता है।
                    कहां - कहां मुख्य अड़चन
                    गांव खेड़कीदौला के समीप एंट्री पर ही विवाद है। आरडी 100 से 300 मीटर (200 मीटर ) तक का एरिया पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में विचाराधीन है।
                    आरडी 2200 से 2300 मीटर (100 मीटर ) के हिस्से में हाई कोर्ट का स्टे।
                    आरडी 3220 से 3300 मीटर (80) में 66 केवीए की हाई टेंशन लाइन। इन्हें शिफ्ट करने को लेकर 19.54 करोड़ रुपये का एस्टिमेट किया गया तैयार।
                    आरडी 3400 से 3975 मीटर (575 मीटर ) एरिया में निर्माण कार्य शुरू करने की एचएसआईआईडीसी से नहीं मिली परमीशन। बिना परमीशन काम शुरू करवाया गया , लेकिन रुकवा दिया गया।
                    आरडी 4200 से 4330 मीटर (130 मीटर ) एरिया में मंदिर व तालाब आ रहे हैं।
                    आरडी 8285 से 8315 मीटर (100 मीटर ) एरिया में गांव बसई स्थित वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का रॉ वॉटर पंप हाउस आ रहा है। अभी तक नये पंप हाउस का निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है।
                    गांव बसई में रेलवे लाइन को क्रॉस करने को लेकर आरओबी का निर्माण किया जाना है। इसमें 125 करोड़ रुपये की लागत आएगी। अब तक रेलवे को पेमेंट नहीं की गई है।
                    आरडी 12900 से 16550 मीटर तक अधिकांश एरिया में पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट का स्टे है। इसमें न्यू पालम विहार के 175 मकान आ रहे हैं।
                    क्या है एनपीआर
                    एनपीआर , एनएच 8 पर गांव खेड़कीदौला से शुरू होकर दिल्ली में द्वारका पर जाकर मिलेगा। इसकी लंबाई 18 किमी है। 1 अप्रैल , 2011 को 14 किमी के निर्माण का टेंडर 44.08 करोड़ रुपये में अलॉट किया गया था। निर्माण कार्य 12 महीनों के अंदर पूरा किया जाना था , लेकिन अड़चनों की वजह से अब तक निर्माण कार्य पूरा नहीं किया जा सका है। इस रोड की चौड़ाई कुल चौड़ाई 150 मीटर है। मौजूदा समय में 12.5x12.5 मीटर में काम किया जा रहा है। 10 मीटर की सेंट्रल वर्ज है और सड़क के साथ में दोनों तरफ 3.5 मीटर का फुटपाथ है। एनपीआर को क्लियर करने को लेकर करीब 70 एकड़ लैंड की आवश्यकता है।

                    एनप€†र •€ राह म‡‚ बड़ा ब्र‡•र - NPR's way bigger breaker - Navbharat Times
                    NPR is finished now, its confirm news that around 100 new cases has also been filled in HC from several another places. As I have already predicted its highly risky place to invest, now forget the matter to get solved in near future.
                    Sab 99 ka fer hain............

                    Comment


                    • Re : NPR - Northern Peripheral Road, Dwarka Expressway, Gurgaon Updates

                      It's really amusing to see how emotions move between euphoria n distress with every new post. Maybe that's the reason for IREF infatuation

                      Comment

                      Have any questions or thoughts about this?
                      Working...
                      X